Gulzar Shahb Shayari…

Gulzaar shahb- tujhe behtar bnane ki koshish

Tujhe Behtar Bnane Ki Koshish Me,
Tujhe Hi Waqt Nahi De Paa Rhe Hai Hum,
Maaf Karna Ae Zindagi,
Tujhe Hi Jee Nahi Paa Rhe Hai Hum.

तुझे बेहतर बनाने की कोशिश में,
तुझे ही वक़्त नहीं दे पा रहे है हम,
माफ़ करना ऐ ज़िन्दगी,
तुझे ही जी नहीं पा रहे है हम।

Spread Your Feeling
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About The Author

Reply